Zindagi Shayari in Hindi on Mera Dawa Hai

अपनी हाथ की लकीरें जो पढ़ नहीं सकता,
हवा खिलाफ हो तो कोई चल नही सकता,
जिस घर में किया जाए बुजुर्गो को अनदेखा,
मेरा दावा है वो शख्स कभी बढ़ नही सकता ..

Leave a Reply